Home Uncategorized भारत में फॉक्सवैगन जीटीआई बंद हुई

भारत में फॉक्सवैगन जीटीआई बंद हुई

by कार डेस्क
Published: Last Updated on
volkswagen cars

फॉक्सवैगन जीटीआई को भारत में बंद कर दिया गया है, लेकिन कंपनी की आधिकारिक पुष्टि की अभी भी प्रतीक्षा की जा रही है। हॉट हैचबैक को बंद करने का कारण निश्चित रूप से इसकी कीमत है।

नवंबर 2016 में वाहन को सीबीयू (पूरी तरह से निर्मित इकाई) के रूप में लॉन्च किया गया था और इसकी कीमत 25.99 लाख रुपये (एक्स शोरूम) है। ऑटोमेकर ने पहले 100 इकाइयों को बहुत जल्दी बेच दिया, लेकिन कम मांग के कारण, लाए गए दूसरे बैच को छूट के साथ बेचना पड़ा।

प्रदर्शन हैचबैक की अब छठी पीढ़ी आ रही है और जर्मन कंपनी इसके भारत लॉन्च पर जोर दे रही है। फॉक्सवैगन के लिए सबसे बड़ी चुनौती कार की कीमत होगी, क्योंकि आयात कर और हैचबैक के एमक्यूबी प्लेटफ़ॉर्म इसे महंगा बना सकते हैं। कार निर्माता के लिए एक और विकल्प यह है कि वह भारत में स्थानीय एमक्यूबी प्लेटफॉर्म के विकसित होने के बाद कार को दो साल या उससे अधिक समय के बाद पेश करे।

जीटीआई को 3-डोर कार के रूप में आयात किया गया था और कंपनी मानती है कि इसकी अत्यधिक कीमत के कारण यह ज्यादा ग्राहकों को आकर्षित नहीं कर पाई। हालांकि, फॉक्सवैगन अभी भी यह मानती है कि ऐसी प्रदर्शन कारों के लिए भी बाजार है, बशर्ते उनका मूल्य निर्धारण सही और समझदार तरीके से किया जाए तो।

इसके अलावा, जर्मन ऑटोमेकर भारत में वाहन को उसी नेमप्लेट के साथ लॉन्च करने के इच्छुक है। इसलिए, कार को अभी के लिए आयात किया जा सकता है और बाद में स्थानीय उत्पादन में स्थानांतरित किया जा सकता है।

फॉक्सवैगन ग्रुप ने एमक्यूबी प्लेटफार्म, एमक्यूबी ए0 आईएन को स्थानीय रूप से विकसित करने की योजना की घोषणा की थी, जो कि फॉक्सवैगन के सभी भविष्य के मॉडल और स्कोडा का बेस होगा। प्लेटफार्म के विकास में कुछ समय लगेगा और सबसे पहले ह्युंडई क्रेटा के साथ प्रतिद्वंद करने के लिए कॉम्पैक्ट एसयूवी का निर्माण करने की उम्मीद है।

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.