Home विंटेज कार पंद्रह साल पुरानी कारें बंद तो क्या होगा विंटेज कारों का!

पंद्रह साल पुरानी कारें बंद तो क्या होगा विंटेज कारों का!

by Mahima Bhatnagar
Vintage cars

राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) और सरकार द्वारा 15 साल से ज्यादा पुरानी कारों के परिचालन को बंद करने की कोशिशों के बीच विंटेज कारों (पुराने जमाने की कारों) के अस्तित्व को लेकर सवाल उठने लगे हैं। विंटेज कारों के शौकीनों को यह चिंता सताने लगी है कि इस कानून के क्रियान्वयन के बाद उनके शौक और विंटेज तथा क्लासिक कार रैलियों का क्या होगा? ऐसे में ऐसी कारों के मालिकों और इससे जुड़े संगठनों ने इन कारों को विरासत का दर्जा दिलवाने के प्रयास शुरू कर दिए हैं। ऐसा संभव होने पर इन कारों पर यह बैन प्रभावी नहीं होगा। कई विंटेज कारें 100 साल से भी पुरानी हैं।

1985 से 1995 तक पसंद की जाने वाली क्लासिक कारें

स्टेट्समैन विंटेज एंड क्लासिक कार रैली

राजधानी के मेजर ध्यानचंद राष्ट्र्रीय स्टेडियम में रविवार को 51वीं वार्षिक स्टेट्समैन विंटेज एंड क्लासिक कार रैली का आयोजन हुआ। यह देश में आयोजित होने वाली सबसे पुरानी विंटेज कार रैलियों में एक है। इस रैली की शुरुआत 1964 में हुई थी। इस रैली की आयोजक कंपनी स्टेट्समैन लिमिटेड ने सरकार से इन कारों (विंटेज) को विरासत कार (हेरिटेज कार) का दर्जा देने की मांग की है। इससे इन्हें प्राधिकरण के 15 साल से ज्यादा पुरानी कारों का परिचालन बंद करने के आदेश से राहत मिल जाएगी। रैली में शामिल लोगों का कहना है कि ये कारें भारत की विरासत हैं और इनका संरक्षण जरूरी है।

विरासत को नुकसान

50 साल पहले इन कारों के संरक्षण के मकसद से स्टेट्समैन ने इस रैली की शुरुआत की थी। अन्यथा यह भारत से निर्यात होकर बाहर चली जातीं और इससे भारत की विरासत का नुकसान होता। इन कारों के मालिकों का कहना है कि वे प्राधिकरण को यह समझाने का प्रयास भी कर रहे हैं कि इन्हें कुछ रियायत दी जाए, ताकि इन्हें चालू हालात में रखा जा सके। ऐसा नहीं होने से देश की यह विरासत नष्ट हो जाएगी। राजस्थान समेत देश की तमाम जगहों पर इस तरह की कारें हैं, जिन्हें लोग बड़ी संभालकर रखते हैं और वक्त आने पर ही निकालते हैं।

भारत की टॉप 5 सर्वाधिक चर्चित क्लासिक और विंटेज कारें

रख-रखाव कठिन व कारीगरों की किल्लत

कल यानी रविवार की रैली में सबसे दूर कानपुर से एक कार रैली में शामिल हुई। यह 1920 की रॉल्स रॉयस है। यह तारिक इब्राहिम की कार है और उनके परिवार के पास यह कार पांच पीढिय़ों से है। रैली में सबसे पुरानी कार 1914 की जॉन मॉरिस शामिल हुई है, जो हैदराबाद के निजाम की थी। इसका रख-रखाव अब रेल संग्रहालय कर रहा है। इन कारों का रख-रखाव भी काफी कठिन है। इनके कारीगर और कल-पुर्जे बहुत मुश्किल से मिलते हैं। कल-पुर्जों को तो विशेष रूप से संबंधित कार कंपनियों से आयात किया जाता है। सबसे अधिक दिक्कत कारीगरों की कमी है।

80 और 90 के दशक की टॉप 7 क्लासिक कारें

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. OK Read More