Home टिप्स कार चलाते समय इन 5 सेफ़्टी फीचर्स का रखें खास ध्यान

कार चलाते समय इन 5 सेफ़्टी फीचर्स का रखें खास ध्यान

by Rachna Jha
Published: Last Updated on
safety-features-driving-car

यदि आप भी मैन्युअल ट्रांसमिशन वाली कार चलाते हैं तो यह जानकारी आप ही के लिए है। क्योंकि एक मैन्युअल ट्रांसमिशन वाली कार ड्राइव करते वक़्त हमें इन 5 सेफ़्टी फीचर्स का जरूर ख्याल रखना चाहिए। ताकि हम टेंशन फ्री राइड का आनंद ले सकें:-

हाइवे पर ड्राइविंग के वक़्त जानलेवा हो सकती हैं यह 6 गलतियाँ

स्टेयरिंग:-

हममें से ज्यादातर लोग एक हाथ को स्टेयरिंग व्हील पर रखते हैं व दूसरे हाथ को गियर लीवर पर रखते हैं। लेकिन गियर लीवर पर हल्का- सा दबाव भी, गियर बॉक्स को नुकसान पहुँचा सकता है। वहीं स्टेयरिंग व्हील पर हमारा हाथ घड़ी में सवा नौ या पौने तीन वाली पोजीशन में ही रहना चाहिए। ताकि सही मूव हो।

Steering

नई कार खरीदी है तो जरूर जाने इन बातों को

क्लच:-

हमलोग अनावश्यक रूप से ड्राइविंग के वक़्त, क्लच पर ही पैर रखे रहते हैं। ताकि हम तुरंत गियर को बदल सकें। लेकिन ऐसा करना दुर्घटना को आमंत्रण देना है। साथ ही क्लच में भी खराबी आ सकती है। इसलिए यदि हमें ब्रेक लगाने की अचानक से जरूरत पड़े तो हमारा पैर क्लच लीवर को दबा देगा। जोकि दुर्घटना की वजह बन सकती है। इसलिए, हमें यथासंभव क्लच से पैर को दूर रखने की चेष्टा करनी चाहिए।

The clutch

नई 2021 कावासाकी निंजा 400 का भारत में आगमन

हैंडब्रेक:-

हमलोग प्रायः पहाड़ी रास्तों या फिर ढलान वाले रास्तों पर हैंड ब्रेक का प्रयोग करते हैं। लेकिन आमतौर पर ड्राइवर क्लच पैडल पर हल्के दबाव के साथ पैर रखते हैं और सोचते हैं कि गाड़ी कंट्रोल में है। पर उन्हें इसके इस्तेमाल की जगह, हैंड ब्रेक का प्रयोग करना चाहिए। ताकि ढाल वाले रास्तों पर दुर्घटना से बचाव हो सके।

Handbreak

महिंद्रा ई वेरिटो की आकर्षित डिज़ाइन बनी सबकी पहली पसंद

गियर:-

हम लोग ढलान से उतरते व्क्त गियर को न्यूट्रल में डाल देते हैं और वे यह भी समझते हैं कि इससे फ्यूल की बचत होगी। पर, हमारी यह सोच बिल्कुल गलत है क्यूंकि न्यूट्रल में ड्राइव करने से गाड़ी पर से इंजन का कंट्रोल हट जाता है। वहीं, ब्रेक्स  भी ओवरहीट हो जाते हैं। इसलिए ढलान से उतारते वक्त हमें गाड़ी को गियर में ही रखना चाहिए। ताकि, कार पर हमारा कंट्रोल बना रहे व कार् को हम नीचे आराम से उतार सकें।

Gear

SSC Tuatara दुनिया की सबसे तेज प्रोडक्शन कार

आरपीएम:-

हमें आरपीएम मीटर पर भी पैनी नज़र रखनी चाहिए। क्योंकि आरपीएम के ज्यादा होने का मतलब है कि हम कार के इंजन पर ज्यादा जोर डाल रहे हैं। वहीं, आरपीएम मीटर से हम अपने कार के इंजन के परफॉरमेंस को बखूबी समझ सकते हैं। हमें कम आरपीएम पर ही गियर को बदलना चाहिए। वहीं, बहुत से लोग कार ड्राइव करते वक्त ज्यादा आरपीएम पर भी गियर को नहीं बदलते हैं। पर, यह आदत इंजन के साथ-साथ गियर बॉक्स को भी खराब कर सकती है। इसलिए इसका खास ध्यान रखें।

Rpm

एक नजर टीनेजर के लिए सबसे अच्छी कारों पर

जाहिर है कि यदि आप भी मैनुअल गियर वाली गाड़ी चलाते हैं। तो, यह जानकारी आपके काम जरूर आएगी।