Home कार रिव्यू 2016 महिंद्रा ई2ओ प्लस की समीक्षा

2016 महिंद्रा ई2ओ प्लस की समीक्षा

by कार डेस्क

यदि आप इलेक्टिक कार की तलाश में बाजार में निकले हैं, तो आपकी विकल्प काफी सीमित होगी – आप महिंद्रा ई2ओ को देख सकते हैं। कोई भी इनकार नहीं कर सकता है कि महिंद्रा खुद को नए क्षेत्र में प्रवेश करने का प्रयास कर रहा है। कंपनी स्व-चलित तकनीक को कृषि उपकरणों में लाने या फॉर्मूला ई के साथ शामिल होने का प्रयास कर रहा है ।

ऐसा एक कदम 2010 में इलेक्ट्रिक कार ‘रेवा’ का लॉन्च था। छह साल बाद EV विभाजन को महिंद्रा इलेक्ट्रिक में बदल दिया है और ‘रेवा’ ब्रांड को अब बंद कर दिया है। महिंद्रा इलेक्ट्रिक छत के तहत, कंपनी वर्तमान में तीन कारों को बेचती है – ई2ओ, ई वेरिटो सेडान और ई सुप्रो कमर्शियल वैन।

जबकि ई वेरिटो और ई सुप्रो जीवाश्म-ईंधन मॉडल के इलेक्ट्रिक संस्करण हैं, वहीं ई2ओ पूर्ण रूप से इलेक्ट्रिक कार है। हालांकि, इसके उद्देश्य से संचालित डिजाइन के बावजूद, मार्च 2013 में लॉन्च हुई ई2ओ बाजार में प्रभाव बनाने में असफल रही।

मुख्य रूप से, ई2ओ के 2-दरवाजे, 100 किलोमीटर तक की सीमित सीमा की वजह से ग्राहकों  शिकायत थी। 3 साल बाद, महिंद्रा ने कुछ प्रतिक्रिया को शामिल किया है और इस तरह 4-द्वार ई2ओ प्लस को लॉन्च किया। महिंद्रा ई2ओ प्लस का लक्षित बाजार घरेलू बाजारों की तुलना में निर्यात बाजार ज्यादा है। चूंकि भारत में इसकी बिक्री अभी भी हर महीने 2 अंकों के आंकड़े में है।

बड़ी सरकारी सब्सिडी और अधिक सक्षम बुनियादी ढांचे के फलस्वरूप बिजली की कार के संदर्भ में ब्रिटेन और अन्य यूरोपीय देशों बड़े बाजार के रूप में उभर कर सामने आए हैं। महिंद्रा निश्चित रूप से 4-द्वार संस्करण की शुरुआत के साथ उस बाजार के बड़े टुकड़े को पकड़ने की कोशिश करेगा।

दो दरवाजे को लगाने के लिए, महिंद्रा ने ई2ओ के आयाम में वृद्धि की है। यह लंबे (310 मिलीमीटर तक), चौड़ा (61 मिलीमीटर से) और ऊँचा (25 मिलीमीटर तक), इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है की व्हीलबेस को 300 मिलीमीटर कर दिया है जिसके फलस्वरूप केबिन में पहले से अधिक जगह हो गई है।

ई2ओ प्लस के सामने के ग्रिल को नया स्पोर्टी लुक दिया गया है और प्रोजेक्टर हेडलाइट्स में को फेरबदल  किया गया है। पीठ पर आगे बढ़ते हुए, आपको छत पे एक नया स्पोइलर दिखेगा और पिछले संस्करण के विपरीत ई2ओ प्लस में LED टेल लाइट है। बस 2-दरवाजा संस्करण की तरह, ई 2 प्लस को स्टील ट्यूबलर स्पेस फ्रेम पर बनाया गया है।

हालांकि, दो अतिरिक्त दरवाजे लगाने की वजह से पुरे ढांचे को बड़ा किया गया है। जैसा कि अपेक्षित था, इन सभी आयामी वृद्धि ने 2-द्वार  संस्करण की तुलना में लगभग 109 किलो का वजन ई2ओ प्लस में बढ़ गया है। महिंद्रा ने दावा किया है कि हलके और उच्च शक्ति वाले स्टील का प्रयुवग कई जगह गया है जिससे वजन में ज्यादा वृद्धि न हो।

यह ग्राहकों को टक्कर के मामले में बॉडी पैनलों को बदलने का एक आसान विकल्प भी प्रदान करता है। कार की स्टाइल के संदर्भ में यह 2-दरवाजे वाले संस्करण से ज्यादा भिन्न है, लेकिन कैबिन की जगह इस कार का मुख्य आकर्षण होगा। केबिन 150 लीटर से ज्यादा बढ़ गया है, जो कि नियमित ई 2ओ की तुलना में 30 प्रतिशत अधिक है।

कैबिन स्पेस की तुलना मारुति सुजुकी ऑल्टो 800 या ह्युंडई आई 10 से कर सकते है। अंदरूनी केबिन का डिजाईन  2-द्वार वाले ई2ओ की तरह रखा गया और कोई भी बड़ा बदलाव नहीं किया गया है। हालांकि, थोड़े बहुत कॉस्मेटिक बदलाव जरूर किये गए है, जैसे काले रंग की जगह बेज रंग, सीट कवर को नया स्वरूप दिया गया है और पुराने हेड-यूनिट को नए एंड्रॉइड हेड-यूनिट से बदल दिया गया है। ई2ओ प्लस में सभी खिड़कियां पावर विंडो से बदल दी गई हैं, पावर मिरर और बिना चाबी के प्रवेश जैसे कुछ फेरबदल किए गए हैं।

इस कर की सिमा 110 किलोमीटर से बढ़कर 140 किलोमीटर हो गई है। हालांकि, चार्ज होने बैटरी को अब 9 घंटे लगते है जो कि 2 घंटे ज्यादा है पिछले से। 90 मिनट में 90 प्रतिशत बैटरी चार्ज करने का विकल्प भी प्रदान है। यह 4-दरवाजे वाला संस्करण 3 वेरिएंट और 5.46 से 9.25 लाख (एक्स-शोरूम दिल्ली) में  उपलब्ध है।

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. OK Read More