Home कंपेरिजन पेट्रोल या डीजल कार, कौन-सी है आपके लिए बेहतर

पेट्रोल या डीजल कार, कौन-सी है आपके लिए बेहतर

by Rachna Jha
Published: Last Updated on
Petrol-Diesel cars

आज हम आपके लिए पेट्रोल और डीजल कारों कातुलनात्मक विवरण लेकर आए हैं। जिससे कि आपके लिए यह जानना आसान हो जाएगा कि दूरी व माइलेज के हिसाब से कौन-सी कार आपके लिए बेहतर साबित होगी। जैसा कि हम सभी जानते हैं, हर रोज, 50-60 किलोमीटर की दूरी तय करने के लिए हम पेट्रोल कार का इस्तेमाल कर सकते हैं। वहीं, रोज 70-100 किलोमीटर या फिर उससे ज्यादा के सफर के लिए हमें डीजल कार को चुनना चाहिए।

कीमत व माइलेज:-आज पेट्रोल व डीजल के दामों में ज्यादा का फर्क नहीं रहा है। पहले डीजल कारों की मांग इसलिए ज्यादा थी क्योंकि उनकी माइलेज ज्यादा थी। परंतु, अब कार निर्माता कंपनियां नई तकनीकों के साथ, स्मार्ट हाइब्रिड टेक्नॉलजी का प्रयोग करके अच्छे माइलेज व परफॉरमेंस वाली पेट्रोल कारें ला रही हैं। वहीं, कीमत की बात करें तो पेट्रोल वेरिएन्ट की तुलना मेंडीजल वेरिएन्ट की कीमत में 1-2 लाख रुपए का अंतर होता है। जैसे की यदि मारुति स्विफ्ट पेट्रोल की कीमत जहां 4.99 लाख रुपए से शुरू होती है। वहीं, स्विफ्ट डीजल की कीमत 5.99 लाख रुपए से शुरू होती है। यहाँ हम देख रहे हैं कि दोनों वेरिएन्ट में लगभग एक लाख रुपए का अंतर आ रहा है। दूसरे उदाहरण के तौर पर, हुंडई ग्रैन्ड आई10 पेट्रोल की कीमत जहां 4.98 लाख रुपए से शुरू होती है। वहीं, ग्रैन्ड आई10 डीजल की कीमत 6.14 लाख रुपए से शुरू होती है। यहाँ भी हमें एक लाख से ज्यादा का अंतर देख को मिल रहा है।

इसे भी पढ़ें: 2020 में मारुति की कारों के कौन-से फीचर्स हो सकते हैं अपडेट

रिसेल वैल्यू:-जहां तक हम रिसेल वैल्यू की बात करें तो हमेशा से ही पेट्रोल कार की रिसेल वैल्यू ज्यादा होती है। वहीं डीजल कार की रिसेल वैल्यू कम आँकी जाती है। परंतु, कमर्शियल फील्ड में सेकेंड हैंड डीजल कारों की काफी डिमांड बनी रहती है।

इग्निशन:- जहां पेट्रोल कार के इंजन में स्पार्क इग्निशन होता है। वहीं, डीजल कार के इंजन में कम्प्रेशन टाइप के इग्निशन होते हैं। इग्निशन के मामले में, पेट्रोल कारें बढ़िया प्रदर्शन करती हैं। साथ ही, पेट्रोल इंजन ज्यादा पावरफुल मानी जाती है और चलते वक्त आवाज़ भी कम करती है। वहीं, डीजल इंजन की लाइफ छोटी होती है।

इसे भी पढ़ें: महंगी कार और कम बजट वाली कार में क्या है अंतर

मैन्टनेन्स:- जहां तक मैन्टनेन्स की बात करें तो पेट्रोल कारों पर ज्यादा मैन्टनेन्स नहीं करना पड़ता है। वहीं, डीजल कारों में ज्यादा स्पेअर पार्ट्स के लगे होने की वजह से, उनके मैन्टनेन्स पर ज्यादा खर्च करना पड़ता है।

प्रदूषण:-जैसा कि हम जानते हैं कि डीजल कारें, पेट्रोल कारों की तुलना में ज़्यादा प्रदूषण फैलाती हैं। क्यूंकी जब डीजल कार चलती है तो इसके धुएं के साथ नाईट्रोजन डाई-आक्साइड भी निकलती है जोकि हमारे पर्यावरण को प्रदूषित करती है।

लिहाजा, यह अब आप पर निर्भर है कि अपनी जरूरत, दूरी व माइलेज के आधार पर, आप एक पेट्रोल कार का चुनाव करेंगे या फिर डीजल कार का।