Home ऑटोमोटिव महिंद्रा ई अल्फा ने दी रिक्शा चालकों को राहत

महिंद्रा ई अल्फा ने दी रिक्शा चालकों को राहत

by Darshana Bhawsar
e alfa

महिंद्रा बहुत बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनी हैं एवं महिंद्रा ने अपना महिंद्रा ई अल्फा रिक्शा प्रारम्भ किया। जिससे रिक्शा चालकों को बहुत राहत मिली है। यह महिंद्रा ई अल्फा रिक्शा प्रदुषण रहित तो है ही साथ ही इसका बेटरी बैकअप भी बहुत उम्दा है। कम कीमत में उत्तम गुणवत्ता वाला वाहन महिंद्रा ने बनाया है। जिसको बेहद पसंद किया जा रहा है। महिंद्रा ई अल्फा मिनी की लॉन्चिंग के बाद इसकी बिक्री के लिए तुरंत ही बुकिंग आने लगी। यह एक ऐसा रिक्शा है जो बिना डीजल और पेट्रोल के चलता है जिससे प्रदुषण से तो राहत मिलती ही है साथ ही डीजल और पेट्रोल के महंगे दामों से भी राहत मिलती है। अब देखते हैं इसमें क्या खास स्पेसिफिकेशन महिंद्रा ने दिए हैं।

इसे भी पढ़ें: फोर्ड इकोस्पोर्ट की नयी शुरुआत

महिंद्रा ई अल्फा मिनी में 1000 वाट की बैटरी लगायी गयी है जिसको एक बार पूरा चार्ज करने के बाद इसको 85 किमी तक आराम से चलाया जा सकता है। एक्स-शोरूम में इसकी कीमत 1.12 लाख रूपये निश्चित की गयी है। इसकी अधिकतम गति 25 किमी/घंटा है। साथ ही कंपनी ने इसमें 120 एएच पावर की बैटरी का प्रयोग किया है। महिंद्रा ने यह भी कहा है कि महिंद्रा ई अल्फा को 1 किलोमीटर चलाकर टेस्ट किया गया था। इसके बाद ही महिंद्रा ई अल्फा मिनी को मार्केट में लॉन्च किया गया है।

e alpha - CarMyCar

इसे भी पढ़ें: फोर्ड इंडिया के नए मॉडल हुए लॉन्च

महिंद्रा एक बहुत ही पुरानी और विश्वसनीय ऑटोमोबाइल कंपनी रही है और यही कारण है कि इस पर सभी ग्राहकों को पूर्ण विश्वास है। महिंद्रा ने महिंद्रा ई अल्फा मिनी के लिए अच्छी सर्विसिंग के लिए कई ऑफर भी निकाले हैं। जिसका लाभ वाहन चालक उठा सकते हैं  साथ ही कंपनी की तरफ से एक बार बैटरी का रिप्लेसमेंट भी है। महिंद्रा ई अल्फा में एक साथ 4 सबारी को बैठाया जा सकता है। लेकिन यह ऑफर अगर महिंद्रा ई अल्फा मिनी को फाइनेंस करते हैं तभी मिलेगा। फाइनेंस में भी ग्राहकों का ही फ़ायदा है।

महिंद्रा ई अल्फा को हरिद्वार प्लांट के अंतर्गत मैन्युफैक्चर किया गया था। इसके साथ ही महिंद्रा ने कहा है कि कंपनी 1000 यूनिट हर  महीने महिंद्रा ई अल्फा मिनी को मैन्युफैक्चर करने की प्लानिंग में है। और अगर मार्केट में देखा जाये तो हर माह 5000 यूनिट का मार्केट है।

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. OK Read More