Home राष्ट्रीय न्यूज जल्द ही होंडा द्वारा भारत से 1.6 लीटर आई-डीटीईसी टर्बो डीजल इंजन निर्यात होगी

जल्द ही होंडा द्वारा भारत से 1.6 लीटर आई-डीटीईसी टर्बो डीजल इंजन निर्यात होगी

by कार डेस्क
Published: Last Updated on
Honda cars

होंडा कार्स इंडिया लिमिटेड (एचसीआईएल) – जापानी ऑटोमेकर की भारतीय कार कंपनी – ने अब राजस्थान में अपने तापुकारा संयंत्र में 1.6 लीटर आई-डीटीईसी टर्बो डीजल इंजन का निर्माण शुरू कर दिया है।

वर्तमान में यह इंजन केवल निर्यात के लिए है, और होंडा इसे थाईलैंड के बाजार में निर्यात करने की योजना बना रही है। हालांकि, यह सब जल्द ही बदल सकता है क्योंकि होंडा ने भारतीय लॉन्च के लिए अपडेटिड सीआर-वी क्रॉसओवर और नई सिविक सेडान को तैयार किया है।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यह दोनों वाहन 1.6 लीटर डीजल मोटर का इस्तेमाल करते है, इसके अलावा ये पेट्रोल इंजनों में भी आते हैं। भारत में हालांकि, यह दोनों वाहन केवल पेट्रोल गाइज़ में मौजूद है, जिससे इनकी बिक्री काफी कम होती थी। वास्तव में,  होंडा को कुछ साल पहले भारत से सिविक सेडान को बंद करना पड़ा था, जब कार के साथ डीजल विकल्प की पेशकश नहीं की जा रही थी।

सीआर-वी प्रतिस्पर्धा की तुलना में भी खराब विक्रेता है, जो की फिर से केवल पेट्रोल गाइज़ में मौजूद होने के कारण है। भारत में 1.6 लीटर आई-डीटीईसी डीजल इंजन का विनिर्माण, होंडा को इस मोटर के साथ सीआर-वी और सिविक दोनों को संचालित करने का विकल्प देगी।

वृद्धि बिक्री परिणाम हो सकती है। भारतीय सीआर-वी और सिविक के डीजल संचालित संस्करण अभी कुछ महीने दूर हैं, लेकिन 1.6 डीजल मोटर पहले थाईलैंड जाएगी। होंडा फिलहाल एक दिन में 450 डीजल इंजन बनाती है, लेकिन इसकी 670 इंजन प्रति दिन की कुल स्थापित क्षमता है।

अतिरिक्त क्षमता का उपयोग 1.6 लीटर आई-डीटीईसी मोटर बनाने के लिए किया जाएगा। निर्यात जुलाई 2017 से शुरू होगा, जबकि घरेलू उपयोग के लिए विनिर्माण अगले साल से शुरू होने की संभावना है।