Home लेटेस्ट लॉन्च होंडा भारत में सिविक फेसलिफ्ट को लॉन्च करेगी

होंडा भारत में सिविक फेसलिफ्ट को लॉन्च करेगी

by कार डेस्क

होंडा कार्स इंडिया ने आधिकारिक तौर पर पुष्टि की है कि वह 2019 में बहु-प्रतीक्षित सिविक को लॉन्च करेगी। एक संपूर्ण अध्ययन के बाद, जापानी कार निर्माता ने निष्कर्ष निकाला है कि बाजार के एसयूवी की तरफ बढ़ने के बावजूद, सेडान सेगमेंट में पोटेंशियल है। सिविक के साथ, होंडा, अपग्रेड की पेशकश कर सकती है।

होंडा ने 2006 में भारत में आठवीं पीढ़ी की सिविक को लॉन्च किया था, लेकिन प्रारंभिक सफलता के बाद, डीजल विकल्प और श्रिंकिंग खंड की कमी के कारण बिक्री घट गई। इसलिए, 2013 में, जापानी कार निर्माता ने मॉडल को बंद कर दिया और उसके सक्सेसर के साथ सिविक को रिप्लेस नहीं किया।

यह कार, जो अंततः हमारे बाजार में लॉन्च होगी, दसवीं पीढ़ी की मॉडल होगी, जिसने 2015 में अपनी अंतरराष्ट्रीय डेब्यू किया था। “हमें सिविक के लिए बहुत सारे अनुरोध प्राप्त हुए हैं, जो की अन्य देशों में बहुत सफल है। इसलिए हम भारत के लिए इस मॉडल का अध्ययन कर रहे हैं और अब तक, परिणाम बहुत सकारात्मक है। होंडा कार्स इंडिया लिमिटेड के अध्यक्ष और सीईओ, योइचिरो युनो ने कहा, इसलिए हम इसे यहां लॉन्च करने जा रहे हैं। ”

हालांकि, सिविक अभी जल्द ही नहीं आएगी। यूनो ने कहा, “घटकों के स्थानीयकरण और भारत के लिए विनिर्देशन के विकास के लिए इसमें कुछ समय लगेगा।“ होंडा का कहना है कि 2019 से पहले सिविक का भारतीय बाजर में आना संभव नहीं है, लेकिन इस समय तक विश्व स्तर पर मिड-लाइफ फेसलिफ्ट का आना तय है। इसलिए, भारत में फेसलिफ्टिड वर्जन को लॉन्च करना सही है। यूनो इस बात से सहमत हैं: “हम नवीनतम मॉडल लाना चाहते हैं, इसलिए अन्य देशों के साथ भारत में फेसलिफ़्ट लॉन्च किया जाना अच्छा होगा। मुझे लगता है कि यह भारत के लिए अच्छा समय है। ”

आठवीं पीढ़ी की मॉडल की तरह, वर्तमान कार का फ्युचुरिस्टिक लुक है। हालांकि, अभी तक फेसलिफ्ट के स्टाइल के बारे में कुछ भी सुनिश्चित नहीं हैं, लेकिन इसमें लो-स्लंग़ और स्लिक सिल्हूट, और फास्टबैक लुक मौजूद रहेगा। जबकि फेसलिफ्ट की लंबाई और ऊंचाई बदल सकती है, वहीं व्हीलबेस वर्तमान 2,700 मिमी ही होगा।

सिविक के लिए इंजन विकल्प, 140 एचपी, 1.8 लीटर पेट्रोल और 120 एचपी, 1.6 लीटर डीजल होने की संभावना है। नई और शक्तिशाली 1.5 टर्बो पेट्रोल, जो कि 170 एचपी के आसपास उत्पन्न करता है, यहां उपलब्ध नहीं होगी।

यूनो कहते हैं, “1.5 टर्बो भारत के लिए एक बहुत महंगा इंजन है।” प्रतियोगी मूल्य निर्धारण को प्राप्त करने के लिए, लागत को कम रखना होंडा के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता है क्योंकि सिविक को टोयोटा कोरोला और ह्युंडई एलांट्रा जैसे मजबूत दावेदारों के साथ प्रतिस्पर्धा करना होगा।

1.6 डीजल, जो की 2018 के मध्य में सीआर-वी में शुरू होगा, सिविक के लिए एक तार्किक विकल्प है, क्योंकि यह स्थानीय रूप से निर्मित होगा और वैश्विक बाजारों में निर्यात किया जाएगा। हालांकि, होंडा डीजल सेडान की मांग को लेकर संदेह में है, खासकर कार्यकारी क्षेत्र में। सिटी 1.5 डीजल की मांग 20 प्रतिशत तक कम हो गई है और होंडा को उम्मीद है कि सिविक डीजल के पास उससे भी कम शेयर होगा।

बाजार हिस्सेदारी हासिल करने के लिए, होंडा ने भारत के लिए छह नए मॉडल की घोषणा की है, जिसमें सिविक भी शामिल है। होंडा, प्रति माह आठवीं पीढ़ी की सिविक की 2,500 यूनिट बेचती है और इसने 2007 ऑटोकर कार ऑफ द ईयर पुरस्कार जीता था।

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. OK Read More