Home राष्ट्रीय न्यूज एफसीए, 2022 तक डीजल कार उत्पादन को बंद कर देगी

एफसीए, 2022 तक डीजल कार उत्पादन को बंद कर देगी

by कार डेस्क
Published: Last Updated on

एफसीए ने अगले चार वर्षों के लिए ब्रांड की रणनीति के तहत 2022 तक अपनी सभी डीजल कारों का उत्पादन रोकने की योजना बनाई है। हालांकि, अभी तक आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है। लेकिन ऑटोमोबाइल ग्रुप द्वारा इस वर्ष जून में इसकी सार्वजनिक घोषणा करने की संभावना है।

इस रणनीति के साथ, फिएट, जीप, मासेरति, अल्फा रोमियो जैसे कार ब्रांड 2022 तक डीजल इंजन का उपयोग नहीं करेगी। भारत में भी, एफसीए ग्रुप के तहत ब्रांडों की कारें उसी नीति का पालन करेंगे।

वर्तमान में हर एफसीए कार ब्रांड के पास डीजल इंजन के साथ कम से कम एक मॉडल है। सभी जीप एसयूवी विकल्प के रूप में डीजल इंजन के साथ आते हैं। हालांकि यह परिदृश्य निश्चित रूप से 2022 तक बदल जाएगा, यह स्पष्ट नहीं है कि केवल डीजल इंजन के साथ आने वाले ग्रुप के पिकअप ट्रक या वैन इस रणनीति का पालन करेंगे या नहीं।

दिलचस्प बात यह है कि यह कदम ऐसे समय में आया है, जब कई कंपनियां डीजल उत्सर्जन घोटालों के तहत आ रही हैं, एफसीए पर भी इसी तरह के घोटाले का आरोप लगाया गया है। ग्रुप पर उत्सर्जन के स्तर में हेरफेर करने के लिए 500एक्स में उत्सर्जन धोखाधड़ी सॉफ्टवेयर का उपयोग करने का आरोप लगाया गया था। डीजल इंजनों को छोड़ने की रणनीति के साथ, एफसीए कारें निश्चित तौर पर पेट्रोल मोटर्स के साथ हाइब्रिड और विद्युत पावरट्रेन के विकल्पों पर ध्यान देगी।

डीजल इंजन को छोड़ने की योजना के पीछे एक और कारण, सख्त उत्सर्जन मानदंड है, जो कि डीजल मोटर्स के व्यापक अपग्रेड की मांग कर रहे हैं। अपग्रेड डीजल इंजनों की ज्यादा मूल्यवान की वजह से कार की कीमत काफी अधिक हो रही है।

भारत में, फिएट का 1.3 लीटर डीडीआईएस डीजल इंजन बहुत ही लोकप्रिय मोटर है, जो कि विभिन्न कार ब्रांडों के कई मॉडलों को संचालित करता है। यह इंजन 2020 में बंद हो जाएगी, क्योंकि भारत में 2020 से बीएस-6 उत्सर्जन मानदंड लागू होगा और फिएट की इंजन को अपग्रेड करने की कोई योजना नहीं है।

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.