Home राष्ट्रीय न्यूज दिल्ली में ड्राइविंग लाइसेंस टेस्ट सख्त होने की उम्मीद

दिल्ली में ड्राइविंग लाइसेंस टेस्ट सख्त होने की उम्मीद

by कार डेस्क
Published: Last Updated on

सड़क पर कारों की बढ़ती संख्या के साथ, दुर्घटनाओं की संख्या भी बढ़ी है। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के अनुसार, अकेले 2016 में, भारतीय सड़कों पर दुर्घटनाओं की संख्या 4,80,652 रही, जिसके परिणामस्वरूप 1,50,785 मौतें हुईं। डेटा में यह भी पता चलता है कि चालकों की गलती, एक प्रमुख कारक है, जिसके परिणामस्वरूप 2016 में कुल दुर्घटनाओं में 84% चालक की गलती से हुए है।

अब, इस नंबर को नीचे लाने के लिए, राजधानी में ऑटोमेटिड ड्राइविंग टेस्ट सेंटर स्थापित करने के लिए सरकार ने भारत की सबसे बड़ी कार निर्माता मारुति सुजुकी के साथ हाथ मिला लिया है। मारुति सुजुकी अगले 12 महीनों के दौरान दिल्ली में 10 ड्राइविंग सेंटर स्थापित करेगी। यह 10 करोड़ रुपये से अधिक के निवेश के साथ किया जाएगा। इन केंद्रों में वैज्ञानिक रूप से निर्धारित परीक्षण ट्रैक, एकीकृत आईटी नेटवर्क और कई कैमरें शामिल होंगे। इसके अतिरिक्त, इन केंद्रों में टेस्ट टेकर के ड्राइविंग व्यवहार का विश्लेषण करने के लिए वीडियो एनालिटिक्स तकनीक भी शामिल होगी।

अब तक, ड्राइविंग परीक्षण मैन्युअल रूप से ड्राइविंग इंस्पेक्टर द्वारा आयोजित किए जाते हैं और हम सभी जानते हैं कि वे कैसे होते हैं। हमें लगता है कि सरकार द्वारा ली गई नई पहल एक अच्छा कदम है और ये स्वचालित ड्राइविंग टेस्ट सेंटर बेहतर ड्राइवरों को ही चुनेगा और इस प्रौद्योगिकी के उपयोग से लाइसेंस जारी करने की प्रक्रिया में कोई भी गलती नहीं होगी।

केंद्रों के लिए हौज खास, शकूर बस्ती, राजा गार्डन और हरि नगर में डीटीसी (दिल्ली ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन) टर्मिनलों चुने गए हैं। रोहिणी, द्वारका, झारोदा कालान, बुरारी, सराय काले खान और लोनी रोड में अन्य केंद्र बनाए जा रहे हैं। सेटअप के साथ, निर्माता के पास अगले तीन वर्षों के लिए नए केंद्रों के संचालन और रखरखाव की भी जिम्मेदारी होगी।