Home टिप्स बरसात में ड्राइविंग के समय भूल के भी ना करें यह 10 गलतियाँ:

बरसात में ड्राइविंग के समय भूल के भी ना करें यह 10 गलतियाँ:

by Rachna Jha
Rainy season

अभी भी हमारे देश में बहुत-से लोग बारिश की वजह से जल भराव की समस्या से जूझ रहे हैं। इससे उन्हें ड्राइविंग में भी काफी परेशानी उठानी पड़ती है। इसलिए, बरसात में ड्राइविंग के वक़्त, हमें यह 10 गलतियाँ भूल के भी नहीं करनी चाहिए:-

1985 से 1995 तक पसंद की जाने वाली क्लासिक कारें

  1. स्पीड:- जहाँ तक संभव हो बारिश में स्लो स्पीड में ड्राइव करें। क्योंकि तेज रफ्तार में गाड़ी चलाने से, जलभराव वाले रास्तों पर पानी की बौछारें बनने लगती हैं। जिससे कि आस-पास ड्राइव कर रहे लोगों खासकर बाइक सवारों को परेशानी उठानी पड़ती है।
  2. सही रास्ता:- ऐसे रास्ते का चुनाव करें, जहाँ पानी का स्तर(लेवल) कम हो। क्योंकि बढ़े हुए पानी के स्तर से, पानी कार के अंदर भी आ सकता है व इंजन को भी नुकसान पहुँचा सकता है। वहीं, इससे आपकी गाड़ी बंद भी हो सकती है।
  3. अन्य रास्ते:- हमें दूसरे वैकल्पिक रास्तों की भी जानकारी होनी चाहिए। इसलिए, जिन रास्तों पर जलभराव ना हो व हम अपनी मंज़िल तक भी पहुँच सकें। ऐसे रास्ते का चुनाव करना चाहिए।
  4. ब्रेक लगाना:- जलभराव वाले रास्तों पर संभलकर ब्रेक लगाना चाहिए। यह देखना चाहिए कि गड्ढे आदि तो सामने नहीं हैं। क्योंकि अचानक से ब्रेक लगाने से गाड़ी फिसल(स्किड) भी सकती है व गाड़ी का संतुलन भी बिगड़ सकता है।
  5. जल-स्तर:- जलभराव वाले रास्तों पर धैर्य से काम लें। जल्दी ना हो तो पानी के स्तर के कम होने का इंतज़ार करें। किनारे में गाड़ी खड़ी कर दें व स्तर कम होने पर ही, आराम से ड्राइव करें।
  6. चेक करना:- सारे पार्ट्स को भी चेक करते रहें। खासकर के ब्रेक को। क्योंकि पानी के गाड़ी के अंदर आ जाने से, पार्ट्स खराब हो सकते हैं।
  7. मदद लेना:- यदि जलभराव की स्थिति में, आपकी गाड़ी अचानक से बंद हो जाए तो लोगों से मदद लेने में संकोच बिल्कुल भी ना करें। ताकि आपकी गाड़ी मैकेनिक तक पहुँच सके मदद के द्वारा।
  8. फॉलो करना:- बरसात के दिनों में बहुत से लोग दूसरी गाड़ी के पीछे चलने लगते हैं। यदि आगे वाली गाड़ी गड्ढे में जाएगी या फिर गलती करेगी तो वही सब कुछ हमारे साथ भी हो सकता है।
  9. गहराई मापना:- बहुत-से लोग पानी की गहराई का अनुमान लगाने की कोशिश करने लगते हैं। पर, जलभराव वाले रास्ते पर खुले मेनहोल हो सकते हैं व यह बड़ी दुर्घटना का रूप भी ले सकती है।
  10. जागरूकता:- हमें जागरूक भी रहना चाहिए कि लाइट्स, वाइपर, टायर्स, क्लच, गियर, ब्रेक, आदि पार्ट्स सही कंडीशन में हैं या नहीं।

   जाहिर है कि इन बातों को अपनाकर, बरसात में भी हम ड्राइविंग सही ढंग से कर सकते हैं

80 और 90 के दशक की टॉप 7 क्लासिक कारें

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. OK Read More