Home Uncategorized डैटसन गो बनाम मारुति ऑल्टो 800

डैटसन गो बनाम मारुति ऑल्टो 800

by कार डेस्क
Published: Last Updated on

मारुति की ट्रेंडी हैच ऑल्टो 800 की लोकप्रियता अब कोई रहस्य नहीं है; यह शायद आम लोगों द्वारा सबसे प्रशंसित मॉडल है, जो अपनी पहली कार खरीदना चाहते है। एक समय था जब मारुति ऑल्टो 800, हैचबैक मॉडल का पर्याय बन गयी थी। खैर, समय बदलता है और प्रतियोगिता भी। आज, हुंडई ईआँन, रेनॉल्ट क्विड आदि जैसे एक ही सेगमेंट में बहुत सारे मॉडल हैं जो इस क्लासिक हैचबैक को टक्कर देने में सक्षम हैं; इसमें एक और नाम हाल ही में जोड़ा गया है।

हां, यहां हम निसान के कम लागत के ब्रांड के डैटसन के बारे में बात कर रहे हैं, जिसका पेह्ला मॉडल है : गो हैचबैक। रेनॉल्ट क्विड से आने वाली कठोर प्रतिस्पर्धा के कारण, मारुति सुजुकी आल्टो बिक्री चार्ट में महत्वपूर्ण गिरावट का साक्षी है।इस कारण, मारुति ने पुनर्मिलित संस्करण ऑल्टो 800 को लॉन्च किया है। हम यहाँ सेगमेंट लीडर ऑल्टो 800 की तुलना, लीडर बनने की इच्छा रखने वाली डैटसन गो से करेंगे।

फीचर्स
एंट्री लेवेल हैचबैक होने के नाते, इस तुलना में कारें सुविधाओं में अमीर नहीं हैं। दोनों में अनिवार्य फीचर्स हैं जैसे एयर कंडीशनिंग, पावर स्टीयरिंग और केवल सामने पावर विंडो। डैटसन गो ही एकमात्र वाहन है जो फौलो मी होम हेडलैम्प्स से लेस है। लेकिन इसमे इलेक्ट्रिकली एडजस्टेबल विंग मिरर्स नही है, जो कि ऑल्टो मे दिये गये हैं।

दोनो कारों में वैकल्पिक ड्राइवर साइड एयर बैग हैं, पर किसी भी गाड़ी में एबीएस नही है। डैटसन गो का स्टीरियो रेडियो या यूएसबी का समर्थन नहीं करता है इसमें केवल औक्स समर्थन प्रदान किया जाता है, दोनों कारें सुविधाओं और विकल्प के मामले में लगभग समान हैं।

एक्स्टीरिअर

दोनों मॉडलों की बाहर की झलक साधारण है। ऑल्टो 800 भारतीय सड़कों पर परिचित चेहरा बन चुकी है। इसमें क्रोम मुफ्त फ्रंट ग्रिल,  ट्वीकड हेडलेम्प्स, साइड सिल्स और संशोधित टेल लैंप हैं। इसके अलावा, इसके पिछले मॉडल के समान डिजाइन और लेआउट हैं।

डैटसन गो के डिज़ाइन के बारे में बात करने के लिए बहुत कुछ नहीं है। यह एक लंबी हैच जैसी दिखती है, जिसमें रियर सबसे मजबूत बिंदु है, जबकि छोटे टायर डिजाइन में अच्छे नही लगते। सामने से स्टाइल अजीब है पर कार पीछे से अच्छी लगती है। इसके बावजूद डैटसन गो ज्यादा अच्छी लग रही है।

इंटीरिअर
एंट्री लेवेल हैच होने के कारण दोनों में सीमित ऑडियो सिस्टम, मैनुअल एयर कंडीशनिंग, पावर स्टीयरिंग, सेंट्रल लॉकिंग, फ्रंट पॉवर विंडो, यूएसबी और औक्स-इन पोर्टेबिलिटी आदि जैसी सुविधाऐ उपलब्ध हैं।
डैटसन ने इस हैच में एक मोबाइल डॉकेट स्टेशन की पेशकश कर गो को ट्रेंडी बना दिया जो ग्राहकों के लिए वास्तव में उपयोगी होगा। इसके अलावा, कुछ अतिरिक्त पैसों के साथ, डैटसन वैकल्पिक के रूप में कुछ सहायक पैकेज प्रदान कर रहा है।

इन पैकों में कई आवश्यक प्रीमियम और आराम वाली विशेषताओं के अनुसार उनकी अलग-अलग श्रेणियां हैं। इनमें रियर एंड साइड विंडो कर्टेन, बॉडी ग्राफिक्स, कुशन पिलो किट, रिमोट लॉकिंग सिक्योरिटी सिस्टम, फौग लैंप किट, कार्पेट एलाय व्हील, गियर नॉब लेदर, मूड लाइट और कई चीज़े शामिल हैं।

डाइमेंशन
पांच वयस्कों के बैठने की क्षमता रखने के साथ, दोनों कारें अपने ग्राहकों के लिए एक विशाल केबिन प्रदान करती हैं। हाँलाकि डैटसन ऑल्टो से लम्बी है, इसकी लंबाई 3785 मिमी, चौड़ाई 1635 मिमी और ऊंचाई 1485 मिमी है, जब की ऑल्टो कि लंबाई 3395 मिमी, चौड़ाई 1490 मिमी और ऊंचाई 1475 मिमी है।
दूसरा अंतर व्हीलबेस, कार बूट और स्पष्ट ऊंचाई आदि जैसे अन्य माप में है। 2360 मिमी से अधिक 2450 मिमी व्हीलबेस ले जाने के साथ गो बेहतर और विस्तृत है, यह 170 मिमी की स्पष्ट ऊंचाई 160 मिमी कि जगह और 177 लीटर से अधिक 265 लीटर की अद्भुत कार है।

इंजन और माइलेज
ऑल्टो 800 में 796 सीसी की छोटी पेट्रोल इकाई है, इसमें 0.8 लीटर 3-सिलेंडर है जो 47.3 बीएचपी की अधिकतम पॉवर और 69 एनएम पीक टोक़ देता है, गो इंजन और बिजली के मामले में बड़ा और बेहतर है। डैटसन ने 1984 सीसी, 1.2 लीटर 3-सिलेंडर पेट्रोल यूनिट के साथ गो को संचालित किया है, जिसमें अधिकतम पॉवर 67.07 बीएचपी और 104 एनएम का टोर्क़ विकसित होता है। दोनों कारें 5-स्पीड मैनुअल ट्रांसमिशन के साथ मिलती हैं।
यहां, मारुति के हैच की फ्युल एफिशेनसी सबसे अच्छी और ध्यान देने योग्य चीज है, मारुति ने फ्युल एफिशेनसी को ऊपर उठाया है, क्योंकि नई गो 20.6 किमी प्रति लीटर देती है जबकि ऑल्टो 24.7 किमी / लीटर का प्रभावशाली माइलेज प्रदान करने में सक्षम है, क्युंकि मारुति ने फ्युल एफिशेनसी 9 प्रतिशत तक बढ़ाई है।

सुरक्षा
दोनों कारें वैकल्पिक ड्राइवर साइड एयरबैग के साथ आती हैं, लेकिन इनमें एबीएस नहीं है, हालांकि बुनियादी सुरक्षा सहायता जैसे सीट बेल्ट प्री-टेंशंनर्स , सेंट्रल लॉकिंग इत्यादि हैं।

मूल्य
इस सेगमेंट के दूसरे मॉडल को छोड़ ऑल्टो 800, गो को अच्छी टक्कर देती है, इसका कारण इसकी सस्ती कीमत है। नई गो 3.26 लाख बेस ट्रिम और 4.14 लाख टॉप एंड मॉडल के सथ आती है, नई ऑल्टो 800, 2.49 -3.34 लाख (पेट्रोल वेरिएंट) के बीच आती है। ऑल्टो 800 में एलपीजी ट्रिम भी है जो कि 3.70-3.76 लाख की रेंज रखती है। सभी कीमतें एक्स-शोरूम दिल्ली की हैं।

निर्णय
डैटसन गो के फायदे
बेहतर आउटपुट के साथ शक्तिशाली इंजन
ऑल्टो 800 की तुलना में विशाल
265 लीटर के विशाल बूट स्पेस

डैटसन गो के नुक्सान
तुलनात्मक रूप से महंगा
अंदर की लागत में कटौती
एनवीएच का स्तर खराब है
नई ब्रांड के रूप में बिक्री के बाद सेवा संदेहास्पद है

मारुति सुजुकी ऑल्टो 800 के फायदे
गो से सस्ती
गो से अधिक फ्युल एफिशेंट
अच्छा प्रदर्शन
मारुति के भरोसेमंद स्वामित्व का अनुभव

मारुति सुजुकी ऑल्टो 800 के नुक्सान
तंग रियर स्पेस
अधिक विशेषताओं को जोड़ा जा सकता था