Home कार न्यूज कार को हमेशा परफेक्ट रखने के तरीके

कार को हमेशा परफेक्ट रखने के तरीके

by Rachna Jha
Car care

हम आपके लिए लेकर आए हैं कुछ ऐसे उपाय जिसे अपनाकर आप अपनी कार को हमेशा परफेक्ट पाएंगे। साथ ही, आपकी कार स्मूथ व सही राइड भी देगी। तो चलिए उन तरीकों से आपको रुबरु करवाएं:-

ऑइल लेवल

हमेशा एक ब्रांडेड ऑइल या फिर कंपनी के द्वारा सुझाए गए ऑइल का ही प्रयोग करें। हर 5,000 से 7,500 मील की दूरी तय करने के बाद, ऑइल को अवश्य बदलना चाहिए। निर्धारित समय तक ऑइल के ना बदलने से इंजन पर असर पड़ सकता है। इसलिए समय-समय पर इंजन ऑइल की जाँच करनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: अपनी पुरानी कार को एकदम नई बनाने के टिप्स

टायर प्रेशर

कार के टायर के प्रेशर की जाँच हर महीने करनी चाहिए और 7,500 मील की दूरी तय करने के बाद, टायर को अवश्य बदलें। क्योंकि टायर में प्रेशर के सही ना होने से, कई तरह की परेशानी कार चालक को झेलनी पड़ सकती है। जैसेकि गलत ब्रेक, असंतुलन, फैले हुए टायर, आदि। चूंकि कार चार टायर्स पर ही टिकी होती है। इसलिए उनकी अलाईनमेंट व प्रेशर की जाँच बेहद जरूरी है। आप खुद भी गौज की मदद से चेक कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: अपनी कार की देखभाल के लिए अपनाएं ये टिप्स

ब्रेक

यदि आपकी कार की ब्रेक घिस रही है या फिर 25,000मील तक कार चल चुकी है, तो ब्रेक पैड्स को बदलना चाहिए। इसकेलिए, आप किसी जानकार या कुशल मैकनिक की मदद ले सकते हैं।

मिरर

आपकी कार में मिरर की अहम भूमिका होती है। इसलिए आगे व पीछे की कार मिरर साफ सुथरी व क्लियर इमेज बनाने वाली होनी चाहिए। ताकि, ड्राइविंग के वक्त फ्रंट व रियर व्यू साफ दिखे।

इसे भी पढ़ें: मारुति और होंडा में से किसकी गाड़ी है सबसे बेहतर

लाइट्स

रात के वक्त, कार चलाने में हेड लाइट्स की पमुख भूमिका होती है। इसलिए, हेड लाइट्स की रोशनी सही आ रही है या नहीं, इसकी जाँच अवश्य करें। बल्ब खराब हों तो नए व अच्छे बल्ब का प्रयोग करें।

एयर-फ़िल्टर

एक एयर फ़िल्टर, कार में फेफड़े का रोल अदा करती है। इसलिए, एयर फ़िल्टर में गंदगी ना जमा होने दें। इसका ध्यान अवश्य रखें। क्योंकि, एक गंदा एयर-फ़िल्टर, आपकि कार की स्पीड व क्षमता पर असर डाल सकता है। अतः, 30,000 मील की दूरी तेय करने के बाद या फिर हरेक साल इसे बदलें।

इसे भी पढ़ें: नई कार Vs पुरानी कार

इंजन

इंजन के तापमान पर भी हमें नज़र रखनी चाहिए। इसके लिए एंटी-फ्रीज़ व कूलेंट का प्रयोग 15,000 मील की दूरी या फिर जरूरत पड़ने पर करें।

इन्टीरीयर

इन्टीरीयर कीभी साफ-सफाई पर भी ध्यान दें। जैसे कि इन्फोटेन्मन्ट सिस्टम, बूट स्पेस, डैश्बोर्ड, सीट्स, विंडोज़ आदि की भी रख-रखाव सही से करें। सर्विस ड्यू होने पर या फिर जरूरत पड़ने पर, अपने कार की सर्विसिंग अवश्य करवाएं। इसके अतिरिक्त, कार के जरूरी कागजात कार के अंदर जरूर रखें। उम्मीद है कि यह जानकारी आपके काम अवश्य आएगी।

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. OK Read More