Home कार न्यूज कार इन्श्योरेन्स पॉलिसी रिन्यू कराने से पहले जान लें यह 7 जरूरी बातें:

कार इन्श्योरेन्स पॉलिसी रिन्यू कराने से पहले जान लें यह 7 जरूरी बातें:

by Rachna Jha
Car insurance policy

कार के मेंटेनेंस में एक अहम भूमिका कार इन्श्योरेन्स पॉलिसी की भी होती है। वहीं सरकार के लागू नियम के तहत, बिना कार इन्श्योरेन्स के आप कार ड्राइव नहीं कर सकते हैं। इसलिए हम आपको कार इन्श्योरेन्स पॉलिसी रिन्यू कराने से पहले की 7 जरूरी बातों से अवगत करने जा रहे हैं;-

इसे भी पढ़ें: कार में सैनिटाइज़र के इस्तेमाल के वक्त बरतें ये सावधानियाँ

ऑनलाइन सुविधा

हममें से बहुत से लोग इस प्रक्रिया को कठिन समझते हैं। पर ऑनलाइन, इन्श्योरेन्स पॉलिसी को रिन्यू करना बहुत ही आसान है। कुछ आसान से स्टेप्स को अपनाकर आप कुछ ही समय में अपनी कार इन्श्योरेन्स पॉलिसी को रिन्यू कर सकते हैं। वैसे आप चाहे तो यह सारी प्रक्रिया नजदीकी डीलर के पास जाकर भी पूरी करवा सकते हैं पर इसके लिए वक्त देना होगा।

समयावधि

इसके अंतर्गत आपको, अपनी कार इन्श्योरेन्स पॉलिसी को निश्चित एक्स्पाइरी डेट से पहले रिन्यू करवाना होगा। क्योंकि, एक्स्पाइरी डेट के बाद यदि आप, इसे रिन्यू करते हैं तो आपको एक्स्ट्रा रुपए खर्च करने होते हैं। इसलिए, निर्धारित डेट से पहले ही कार इन्श्योरेन्स पॉलिसी को रिन्यू अवश्य करें। वहीं, इन्श्योरेन्स के एक्स्पाइर होने की स्थिति में आपको खामियाज़ा/जुर्माना भी भुगतना पड़ सकता है।

इसे भी पढ़ें: बारिश के मौसम में अपनी कार की केयर के टिप्स

नो क्लेम बोनस (NCB)

इसका मतलब यह होता है कि आपके पॉलिसी लेने के पूरे समय (पीरीयड) के दौरान, एक बार भी कोई क्लेम नहीं करते हैं। तो, आपको बोनस राशि, इन्श्योरेन्स कंपनी प्रदान करती है। वहीं, यदि आप पाँच वर्षों तक किसी भी तरह का क्लेम नहीं करते हैं तो यही बोनस राशि 50 प्रतिशत तक बढ़ जाती है।

सुरक्षा कवरेज

इसके अंतर्गत विभिन दुर्घटनाएं, चोरी, प्राकृतिक आपदाओं आदि से हुए नुकसान की भरपाई मिलती है। साथ ही, आवश्यकता होने पर रोड असिस्टन्स भी इन्श्योरेन्स कंपनी देती है। वहीं, थर्ड पार्टी इन्श्योरेन्स के तहत तीसरे पक्ष के नुकसान, दुर्घटना या फिर संपत्ति के नुकसान आदि शामिल हैं। जिसे पूरी तरह से इन्श्योरेन्स कंपनी वहन करती है। दूसरी तरफ कॉम्प्रिहेंसिवकवरेज के तहत थर्ड पार्टी कवर के साथ ही आप पूरे कार पर इन्श्योरेन्स पाते हैं।

इसे भी पढ़ें: कार को हमेशा परफेक्ट रखने के तरीके

आईडीवी

अर्थात इन्श्योर्ड डिक्लेयर्ड वैल्यू। आपकि कार के इन्श्योरेन्स का प्रीमियम कितना होगा, यह आपकी कार की इन्श्योर्ड डिक्लेयर्ड वैल्यू पर पूरी तरह से निर्भर करती है। आईडीवी वह अधिकतम राशि/रकम होती है, जिसके लिए आप क्लेम कर सकते हैं।

पॉलिसी लेना

वहीं कार इन्श्योरेन्स पॉलिसी लें जोकि ज़्यादा बीमा सुरक्षा प्रदान करती हो। कईबार हमें कम प्रीमियम देकर भी ज़्यादा बढ़िया कार पॉलिसी कवरेज प्राप्त हो जाती है। वहीं, कार पॉलिसी किसी प्रतिष्ठित कंपनी की ही लें। जोकि, आपको ज़्यादा सुरक्षा व कवरेज देती हो।

एड-ऑन

अन्य सुविधाओं जैसे टायर पंचर होना व फटना, चाभियाँ खोना, कार में मौजूद कीमती समान खोना, लैपटॉप, एलईडी म्यूजिक सिस्टम, मोबाईल फोन आदि के नुकसान की भरपाई के लिए आप एड-ऑन बीमा सुरक्षा को जुड़वा सकते हैं। इस सुविधा के लिए हर इन्श्योरेन्स प्रीमियम की रकम कुछ बढ़ सकती है। यह एड-ऑन सुविधा पाँच साल से कम पुरानी कारों के लिए लागू होती है। उम्मीद है कि यह जानकारी आपके काम जरूर आएगी।

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. OK Read More